What is Bitcoin in Hindi : निवेश से पहले समझें CryptoCurrency का पूरा गणित

 CryptoCurrency , एक ऐसी आभासी मुद्रा जो आज चर्चा का विषय है। हर कोई इसमें निवेश और इसके बारे में जानने को इच्छुक है। इसलिए What is Bitcoin in Hindi : निवेश से पहले समझें CryptoCurrency का पूरा गणित | CryptoCurrency में जितनी तेजी से उछाल आया है उसे देख कर हर कोई अब यह सोचने लगा है कि काश उसने भी इसमें निवेश किया होता। क्योंकि कुछ महीनों पहले जो Bitcoin 1200 डॉलर का था वो 19000 डॉलर का आंकड़ा तक छू चुका है। यानी करीब 150 गुना तक का इजाफा दिखा चुका है। हालांकि आरबीआई इस करेंसी को लेकर लोगों को सतर्क भी कर चुकी है। हम अपनी इस खबर के माध्यम से आपको Bitcoin से जुड़े तमाम सवालों के जवाब देने की कोशिश करेंगे।

आखिर है क्या बिटकॉइन? (What is Bitcoin in Hindi)

How-does-bitcoin-works-in-hindi
पहली बात यह है कि बिटकॉइन कोई करेंसी नहीं है। करेंसी की परिभाषा के मुताबिक किसी भी देश की मुद्रा में कुछ की हफ्तों के भीतर दोगुने और तीन गुने तक का उछाल नहीं आता है, क्योंकि मुद्रा स्थिर होती है और इसका इस्तेमाल लेन-देन में किया जाता है। Bitcoin हाल ही में 11000 डॉलर के स्तर पर पहुंच गया था और वो इसके बाद गिरकर 9000 डॉलकर पर आ गया। हालांकि कुछ दिन बाद ही इसने 18000 डॉलर का आंकड़ा पार कर लिया। कोई भी मुद्रा इस तरह का उतार-चढ़ाव नहीं आता है। ऐसी अस्थितरता सामान्यतया: किसी निवेश विकल्प में ही आ सकती है।

मुनाफा नहीं बिटक्वाइन के खतरे समझें: ( What are the risk in bitcoin)

 जिस तरह से शेयर मार्केट पर निगरानी रखने के लिए सेबी जैसा नियामक स्थापित किया गया है लेकिन Bitcoin का कोई नियामक नहीं है। इसे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्राइवेट प्लेयर संचालित करते हैं। जैसा कि आप सभी जानते हैं कि Bitcoin की खरीद डिजिटल माध्यम से की जाती है। ऐसे में अगर मान लीजिए कि कोई आपका सिस्टम हैक कर ले और आपका Bitcoinचुरा ले तो आप अपनी शिकायत किसे सुनाने जाएंगे। आपके पास रोने के सिवाय कोई दूसरा चारा नहीं होगा।  आरबीआई हाल ही में भारत के निवेशकों को सर्तक करते हुए कह चुका है कि यह पूरी तरह से अवैध है और उन्हें इसमें निवेश नहीं करना चाहिए। केंद्रीय बैंक का कहना है कि वो बिटकॉइन को नहीं जानता है और न ही वो इसका नियमन करता है। 
Share Market में निवेश करना भी कुछ हद तक जोखिम भरा होता है लेकिन सोचिये कि शेयर मार्किट में काम करने वाली कंपनी के पीछे बहुत सारा पूंजी होता है, उसके पीछे उसका व्यापर होता है लेकिन Bitcoin के पीछे कुछ भी नहीं है ये केवल सट्टे पर ही चलता है |
 

कहां से खरीदे बिटकॉइन: (Where to Buy Bitcoin) :

अगर आप भी Bitcoin की खरीद करना चाहते हैं तो आपको सबसे पहले एक  कॉइन एप को डॉउनलोड करें। इस साइट पर क्लिक करते ही आपके सामने एक पेज ओपन होगा जिसमें आपकी ई-मेल आईडी मांगी जाएगी। ई-मेल आईडी एंटर करते ही आपके सामने एक फॉर्म ओपन होगा जिसे आपको भरना होगा। ये करने के बाद आपको साइन इन पर क्लिक करना होगा। अगर आप पहली बार इस करेंसी में ट्रेड करने के लिए कोई अकाउंट बनाने जा रहे हैं तो आपको आपकी सहूलियत के लिए कुछ दिशानिर्देश दिए जाएंगे जो आपके काफी काम आ सकते हैं। वहीं डेस्कटॉप वर्जन में यह काफी आसान है। आपको बता दें कि यह एक डिजिटल अकाउंट होता है। इसमें आपको अपना डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड अकाउंट अटैच करना होता है। सारा प्रोसेस पूरा कर लेने के बाद आपका अकाउंट बना दिया जाएगा। इसके बाद आप ट्रेडिंग शुरू कर सकते हैं। इसके बाद आप बिटकॉइन की खरीद कर सकते हैं। आमतौर पर एक अकाउंट बनाने के लिए आपको कुछ राशि खर्च करनी होती है। इसके बाद आप तय रेट के हिसाब से ट्रेडिंग शुरू कर सकते हैं। जैसे अगर अभी बिटकॉइन 18000 डॉलर का है तो आप 11,70000 रुपए खर्च कर एक बिटकॉइन खरीद सकते हैं।
बिटकॉइन पर लगता है कितना टैक्स? (tax on bitcoin)
केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने अभी तक इसके संबंध में कोई भी दिशानिर्देश जारी नहीं किया है। लेकिन अमेरिका जैसी विकसित अर्थव्यवस्थाओं में इसे निवेशकों के हाथ का कैपिटल एसेट्स माना जाता है, लिहाजा वहां पर इस पर कैपिटल गेन टैक्स लग रहा है। हालांकि भारत जैसे देश में बिटकॉइन अवैध है लेकिन फिर भी इसकी खरीद फरोख्त से इनकार नहीं किया जा सकता है। सरकार की ओर से वर्चुअल करेंसी की देखरेख के लिए एक समिति का भी गठन किया गया है। समिति का मानना है कि हालांकि बिटकॉइन अवैध है लेकिन लोगों को इससे होने वाली आय पर टैक्स देना होगा और उसकी जानकारी अपने रिटर्न में भी देनी होगी।
भारत में फिलहाल इसको लेकर कोई नियम नहीं है लिहाजा बिटकॉइन को एक एसेट माना जाएगा और इसी के हिसाब से आपको इस पर टैक्स अदा करना होगा। अगर आप बिटकॉइन को एक साल से ज्यादा समय के लिए अपने पास रखकर उसे बेचते हैं तो आपको इंडेक्शेसन के बाद लॉन्ग टर्म कैपिटल गेन अदा करना होगा जो कि 20 फीसद होगा। वहीं अगर आप इसे 1 साल से कम अवधि के लिए रखकर बेचते हैं तो आपको इनकम टैक्स के हिसाब से भुगतान करना होगा। उदाहरण से समझिए। अगर आपकी सालाना आय 3 लाख रुपए है, तो इसमें से 2 लाख 50 हजार रुपए की राशि तो टैक्स फ्री होगी, लेकिन बाकी के 50,000 पर आपकी टैक्स देनदारी बनेगी। लेकिन अगर आपने इसी दौरान बिटकॉइन बेचकर पैसा कमाया है और अगर वह रकम 50,000 है तो अब आपको 1 लाख रुपए के ऊपर टैक्स अदा करना होगा।
शा है आपको What is Bitcoin in Hindi  के विषय में समझ में आगया होगा |

 

3 thoughts on “What is Bitcoin in Hindi : निवेश से पहले समझें CryptoCurrency का पूरा गणित

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *